videsh

इंडोनेशिया : डूबी पनडुब्बी की तलाश जारी, गहरे समुद्र में समाने की आशंका

सार

सिंगापुर व मलेशिया के बचाव पोत शनिवार तक यहां पहुंचेंगे। ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, रूस, भारत और तुर्की की सेना ने भी मदद की पेशकश की है।

ख़बर सुनें

इंडोनेशियाई नौसेना ने बृहस्पतिवार को 53 लोगों के साथ लापता हुई अपनी पनडुब्बी की गहन तलाश जारी रखी। इसके गहरे समुद्र में समाने की आशंका है और इसमें सवार लोगों के जिंदा होने की संभावना क्षीण होती जा रही है।

इस बीच, सिंगापुर व मलेशिया के बचाव पोत शनिवार तक यहां पहुंचेंगे। ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, रूस, भारत और तुर्की की सेना ने भी मदद की पेशकश की है।

बता दें कि डीजल चालित ‘केआरआई नांग्गला 402’ पनडुब्बी बुधवार को उस समय लापता हो गई जब यह प्रशिक्षण अभ्यास पर थी। अधिकारियों ने बताया कि बाली द्वीप से 96 किलोमीटर उत्तर में जिस स्थान पर आखिरी समय पनडुब्बी ने पानी में गोता लगाया था, वहां पर तेल का रिसाव और डीजल की गंध मिली है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इस तेल का संबंध लापता पनडुब्बी से ही है या नहीं। इंडोनेशियाई नौसेना ने कहा कि उसे लगता है यह पनडुब्बी 600 से 700 मीटर की गहराई में डूबी है जो 200 मीटर गहराई के पूर्व के अनुमान से अधिक है।

दक्षिण कोरियाई कंपनी ‘देउ शिपबिल्डिंग एंड मरीन इंजीनियरिंग’ के अधिकारी गुक हेयाने ने कहा कि अधिकतर पनडुब्बियां 200 मीटर से अधिक गहराई पर जाने की स्थिति में पानी के दबाव की वजह से नष्ट हो जाती हैं।

ज्यादा गहराई में चली गई पनडुब्बी
ऑस्ट्रेलियाई पनडुब्बी संस्थान के सचिव फ्रैंक ओवन ने अनुमान जताया कि पनडुब्बी बचाव दल के अभियान से कहीं अधिक गहराई में चली गई है।

उन्होंने कहा, अधिकतर बचाव प्रणाली केवल 600 मीटर तक की गहराई पर काम करने के लिए है। वे उससे गहरे जा सकते हैं क्योंकि उनके डिजाइन में सुरक्षा के अतिरिक्त उपाय होते हैं लेकिन वे उसे पंप नहीं कर सकते और उससे जुड़ी अन्य प्रणालियों को चला नहीं सकते हैं। वे गहराई में जिंदा रह सकते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि पनडुब्बी का परिचालन कर सकें।

विस्तार

इंडोनेशियाई नौसेना ने बृहस्पतिवार को 53 लोगों के साथ लापता हुई अपनी पनडुब्बी की गहन तलाश जारी रखी। इसके गहरे समुद्र में समाने की आशंका है और इसमें सवार लोगों के जिंदा होने की संभावना क्षीण होती जा रही है।

इस बीच, सिंगापुर व मलेशिया के बचाव पोत शनिवार तक यहां पहुंचेंगे। ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, रूस, भारत और तुर्की की सेना ने भी मदद की पेशकश की है।

बता दें कि डीजल चालित ‘केआरआई नांग्गला 402’ पनडुब्बी बुधवार को उस समय लापता हो गई जब यह प्रशिक्षण अभ्यास पर थी। अधिकारियों ने बताया कि बाली द्वीप से 96 किलोमीटर उत्तर में जिस स्थान पर आखिरी समय पनडुब्बी ने पानी में गोता लगाया था, वहां पर तेल का रिसाव और डीजल की गंध मिली है।

हालांकि, यह स्पष्ट नहीं है कि इस तेल का संबंध लापता पनडुब्बी से ही है या नहीं। इंडोनेशियाई नौसेना ने कहा कि उसे लगता है यह पनडुब्बी 600 से 700 मीटर की गहराई में डूबी है जो 200 मीटर गहराई के पूर्व के अनुमान से अधिक है।

दक्षिण कोरियाई कंपनी ‘देउ शिपबिल्डिंग एंड मरीन इंजीनियरिंग’ के अधिकारी गुक हेयाने ने कहा कि अधिकतर पनडुब्बियां 200 मीटर से अधिक गहराई पर जाने की स्थिति में पानी के दबाव की वजह से नष्ट हो जाती हैं।

ज्यादा गहराई में चली गई पनडुब्बी

ऑस्ट्रेलियाई पनडुब्बी संस्थान के सचिव फ्रैंक ओवन ने अनुमान जताया कि पनडुब्बी बचाव दल के अभियान से कहीं अधिक गहराई में चली गई है।

उन्होंने कहा, अधिकतर बचाव प्रणाली केवल 600 मीटर तक की गहराई पर काम करने के लिए है। वे उससे गहरे जा सकते हैं क्योंकि उनके डिजाइन में सुरक्षा के अतिरिक्त उपाय होते हैं लेकिन वे उसे पंप नहीं कर सकते और उससे जुड़ी अन्य प्रणालियों को चला नहीं सकते हैं। वे गहराई में जिंदा रह सकते हैं लेकिन जरूरी नहीं कि पनडुब्बी का परिचालन कर सकें।

Source link

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Most Popular

17
Desh

सुप्रीम कोर्ट: जीएसटी कानून के तहत बैंक खाते, संपत्ति जब्ती का आदेश कठोर फैसला

15
videsh

यूएई ने पाकिस्तान को 2 अरब डॉलर का कर्ज चुकाने की मोहलत दी

14
Desh

चुनावी घमासान: ममता बोलीं, बंगाल को दंगाइयों के हाथ में मत देना

14
videsh

चाड: राष्ट्रपति इदरिस डेबी की लड़ाई के मैदान में घायल होने के बाद मौत

14
Entertainment

कानन देवी: ये हैं पहली भारतीय फीमेल स्टार, जानें क्यों इनकी शादी के खिलाफ हो गया था पूरा समाज

14
Desh

शर्मनाक: रेमडेसिविर-ऑक्सीजन की कालाबाजारी…जिंदगी-मौत की सौदेबाजी और कितना गिरेगा इंसान

13
Entertainment

इस हीरोइन के साथ रात गुजारना चाहता था अंडरवर्ल्ड डॉन, खूबसूरती ही बन गई थी मुसीबत

13
Desh

कोरोना की दूसरी लहर: 146 जिलों में हालात बहुत गंभीर, संक्रमण दर 15 फीसदी से ज्यादा

13
Desh

Coronavirus Lockdown Live: एयर इंडिया का बड़ा फैसला, 24-30 अप्रैल के बीच भारत-ब्रिटेन की सभी उड़ानें रद्द

13
Desh

सियासत: ऑक्सीजन सप्लायर्स बोले- आंदोलन ने रोका रास्ता, ड्राइवर ने कहा- किसानों ने तो मदद की

13
Desh

कोरोना महामारी : कुल उत्पादन में से 0.4 प्रतिशत तरल ऑक्सीजन ही निर्यात

To Top
%d bloggers like this: